उत्तर प्रदेशराजनीति

तसलीम के सिर बंधा जीत का सेहरा, पूर्व मंत्री राजा भारतेन्द्र को रिकार्ड मतो से हराया, मेरी जीत नहीं अवाम की हुई जीत-तसलीम

तसलीम के सिर बंधा जीत का सहरा, पूर्व मंत्री राजा भारतेन्द्र को रिकार्ड
मतो से हराया, मेरी जीत नहीं अवाम की हुई जीत-तसलीम

तसलीम के सिर बंधा जीत का सहरा, पूर्व मंत्री राजा भारतेन्द्र को रिकार्ड
मतो से हराया, मेरी जीत नहीं अवाम की हुई जीत-तसलीम

1 फोटो नजीबाबादं। नजीबाबाद विधान सभा चुनाव में सपा प्रत्याशी हाजी
तसलीम अहमद ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कुवंर भारतेन्द्र को 23803 मतोे
से हराकर एक बार फिर जीत हासिल की और लगातार तीन बार विधायक बनने गौरव
हासिल किया। हाजी तसलीम अहमद की जीत से उनके समर्थक बल्लियां उछल पड़े।
समर्थको ने एक दूसरे को मिठाई खिलाफर जीत की मुबारकबाद दी। विधायक हाजी
तसलीम अहमद ने अपनी जीत को पूरे नजीबाबाद विधान सभा की अवाम की जीत
बताया। नजीबाबाद विधान सभा 2022 के विधान सभा चुनाव में भाजपा के राजा
भारतेन्द्र सिंह, सपा से हाजी तसलीम अहमद, बसपा से शाहवाज़ खलील कांगे्रस
से सलीम अंसारी, आजाद समाज पार्टी से मौ. दानिश, आम आदमी पार्टी से श्रवण
कुमार के अलावा आधा दर्जन से अधिक प्रत्याशी चुनाव मैदान में थे। लेकिन
मुख्य मुकाबला सपा भाजपा और बसपा के बीच माना जा रहा था लेकिन मतदान की
पूर्व संध्या पर अधिकांश अल्पसंयख्यको का रूझान सपा प्रतयाशी के पक्ष में
आ गया था। मतदान के दिन नजीबाबाद में साईकिल की एैसी लहर चली थी जिसने
चुनाव का माहौल ही बदल दिया था। हालांकि भाजपा को समाज का एक तरफा
साईलेंट वोट पड़ा था। सपा बसपा और भाजपा प्रत्याशी अपनी अपनी जीत के दावे
कर रहें थे। लेकिन मतगणना के दिन नजीबाबाद विधान सभा से सपा प्रत्याशी
हाजी तसलीम अहमद ने पहले ही राउंड से बढ़त बनानी शुरू कर दी थी जो आखिर तक
कम नहीं हुई। इस तरह हाजी तसलीम अहमद ने भाजपा प्रत्याशी राजा भारतेन्द्र
को हरा दिया। हाजी तसलीम अहमद को 102675 मत, राजा भारतेन्द्र को 78905 और
बसपा के शाहनवाज खलील को मात्र 44727 मतो पर ही संतोष करना पड़ा। विधायत
तसलीम अहमद की जीत पर उनके समर्थक बल्लियां उछल पड़े और एक दूसरे को मिठाई
खिलाकर जीत की मुबारकबाद देते रहे। विधायक हाजी तसलीम ने सभी का शुक्रिया
अदा करते हुए अपनी जीत को नजीबाबाद विधान सभा की अवाम की जीत बताया।
बाक्स- 50हजार से किया था जीत का दावा, लेकिन 50हजार वोट भी नहीं ले पाए
बसपा प्रत्याशी
बसपा प्रत्याशी शाहनवाज खलील ने मतदान के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए
अपनी जीत 50 हजार से अधिक वोटो से होने का दावा किया था लेकिन पूरी विधान
सभा से 50 हजार वोट पूरे भी नहीं मिल पाए। शाहनवाज खलील को कुल 44727 वोट
ही मिल सके जो पिछले विधान सभा चुनाव में बसपा प्रत्याशी जमील अंसारी से
भी कम है। उधर राजा भारतेन्द्र भी पिछले चुनाव में भाजपा प्रत्याशी रहे
राजीव अग्रवाल के आंकडे को पार नहीं कर पाए।
बाक्स- हाजी तसलीम हैट्रिक बनाने में हुए कामयाब
सपा विधायक हाजी तसलीम अहमद ने लगातार तीसरी जीत हासिल कर हैट्रिक बनाने
में कामयाबी हासिल की। विधायक हाजी तसलीम अहमद एक बार बसपा और एक बार सपा
से विधायक बने थे इस बार भी उन्हें सपा से प्रत्याशी घोषित किया था। इस
तरह वह दूसरी बार सपा से विधायक बने है।

बाॅक्स- तसलीम ने लिया भारतेन्द्र से हार का बदला
विधायक हाजी तसलीम अहमद ने भाजपा प्रत्याशी राजा भारतेद्र सिंह को हराकर
20 साल बाद का बदला ले लिया। सन् 2002 के विधानसभा चुनाव में बिजनौर
विधानसभा चुनाव में राजा भारतेन्द्र सिंह ने तसलीम अहमद को हराया था।
जिसका बदला हाजी तसलीम अहमद ने 2000 के चुनाव हिसाब बराबर कर लिया है।

विकास अग्रवाल संपादक बिजनौर केसरी

Related Articles

Back to top button